Digital clock

Saturday, June 28, 2014

Good morning.............

Photo

ये ना पुछ मै शराबी कयुँ हुआ

ये ना पुछ मै शराबी कयुँ हुआ
बस युं समज ले ......
गमो के बोझ से नशे की बोतल सस्ती लगी

आंखों को जब किसी की चाहत

आंखों को जब किसी की चाहत
हो जाती है,
उसे देख के ही दिल को राहत हो जाती है,
कैसे भूल सकता है कोई किसी को, जब
किसी को किसी की आदत
हो जाती है...

नजर अंदाज करों उन लोगों को

नजर अंदाज करों उन लोगों को
जो आपकी पीठ पीछे 
आपके बारे में बातें करते है,

क्योंकि वे उसी जगह है, 
जहाँ वे रहने के लायक है, 
'आपके पीछे'........👤

क्या खुब जवाब था एक बंदे का जब उससे

क्या खुब जवाब था एक बंदे का जब उससे
पुछा गया की तेरी दुनिया कहा से शुरू होती है
कहा पर खत्म
बंदे का जवाब था
मा की कोख से शुरू होकर पिता के चरणो से गुजर
कर पत्नि की खुशी के गलियो से होकर बच्चो के
सपनो को पुरा करने तक खत्म ...

Exam hall. में बैठकर हम यही सोचते

Exam hall. में बैठकर हम यही सोचते
हैं कि हमारी याददाश्त बहुत
कमजोर है...
लेकिन, जिससे कभी प्यार
किया हो और उसे भूलना चाहो...
.
.
.
.
.
.
.
.
तो लगता है कि जैसे
सारी दुनिया के काजू-बादाम हमने
ही खा रखे हे ..! 😛

गलत फहमियों के सिलसिले इतने दिलचस्प है ,

गलत फहमियों के सिलसिले इतने दिलचस्प है ,
हर ईंट सोचती है कि दीवार बस मुझसे
जिन्दा है ....!